Sorry Shayari in Hindi For GirlFriend Sorry Shayari for Sister in Hindi Sorry

sorry shayari in hindi for girlfriend, sorry shayari for sister in hindi, sorry shayari, sorry shayari for friend, sorry shayari writing, sorry shayari in english, sorry shayari 2 line in hindi, Sorry Shayari Photo, Sorry Shayari For Boyfriend

Sorry Shayari in Hindi For GirlFriend

कहा सुना जो भी हो माफ़ करना
कुछ वादे किये ना निभाए हों तो माफ़ करना
कुछ बातें जो हम दोनों के बिच हवी
उन में कुछ भला बुरा हुवा हो तो माफ़ करना

sorry shayari for sister in hindi

देखा है आज मुझे भी गुस्से की नज़र से,
मालूम नहीं आज वो किस-किस से लड़े है।

sorry shayari

कर देना माफ़ हम को दिल से अगर तोडा हो कभी दिल
ज़िन्दगी किया भरोशा कल कफ़न में लिपटा मिले तुम को ये दोस्त तुम्हारा

999 Hindi Lyrics (हिंदी गाने) Read Best Lyrics In Hindi999 Hindi Captions (हिंदी कैप्शन) Read Best Captions In Hindi
Famous Authors Quotes 999 About Friendship, Life, Love999 Hindi Poetry (हिंदी कविता) Read Best Poetry In Hindi
999 Hindi Poem (हिंदी कविता) Read Best Poem In Hindi999 Hindi Paheliyan (हिंदी पहेलियाँ) Read Best Paheliyan In Hindi

sorry shayari for friend

न तेरी शान कम होती न रुतबा ही घटा होता,
जो गुस्से में कहा तुमने वही हँस के कहा होता।

sorry shayari for wife in hindi

इश्क की नगरी में माफ़ी नहीं किसी को भी
इश्क उमर नहीं देखता बस उजाड़ देता है

sorry shayari writing

खता हो गयी तो फिर सज़ा सुना दो,
दिल में इतना दर्द क्यूँ है वजह बता दो,
देर हो गयी याद करने में जरूर,
लेकिन तुमको भुला देंगे ये ख्याल मिटा दो।

sorry shayari in english

खता हो गई हो तो सजा भी सुना दो
दिल में इतना दर्द क्यू है वजह भी बता दो
देर हो गई याद करने में ज़रूर लेकिन
तुमको भुला देंगे ये ख्याल दिल से निकाल दो

sorry shayari 2 line in hindi

दिल से तेरी याद को जुदा तो नहीं किया,
रखा जो तुझे याद कुछ बुरा तो नहीं किया,
हम से तू नाराज़ हैं किस लिये बता जरा,
हमने कभी तुझे खफा तो नहीं किया।

Sorry Shayari Photo

दर्द किया होता है बतायेंगे एक रोज़
प्यार की गजल सुनायेंगे किसी रोज़
थी उनकी जिद की में जाऊ उनको मानाने
मुजको ये वेहम था वो बुलायेंगे किसी रोज़

Sorry Shayari For Boyfriend

वो शख्स जिसे तूने छोड़ने की जल्दी की
तेरे मिज़ाज के सोंच में ढाल भी सकता था
वो जल्दबाजी में खफा हो के चल दिया वरना
नतीजे का कोई हल निकल भी सकता था
तमाम उम्र तेरा मुताज़िर रहा मोहसिन
ये और बात थी के वो रास्ता बदल भी सकता था

Spread the love

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *